Jo aasani se samjh me aaye use ishq kaha kahte hai – Love shayari

ishq love shayari

कुछ ऐसा एहसास दो हमें,
कि हम उलझन में पड़ जाएं,
जो आसानी से समझ में आए,
उसे इश्क़ कहा कहते है।

Kuch aisa ehsaas do hume,
Ki hum uljhan me pad jaye,
Jo aasani se samjh me aye,
Use ishq kaha kahte hai.

जब भी जिक्र हुआ मोहब्बत का,
मैंने बस तेरा ही नाम लिया,
इतनी पाक थी मेरी आशिक़ी तुमसे,
तुम्हे हर सांस के साथ याद किया।

Jab bhi jikra huaa mohabbat ka,
Maine bas tera hi naam liya,
Itni paak thi meri aashiqui tumse,
Tumhe har sans ke sath yaad kiya.

तुम दरिया ए इश्क़ हो,
पर लगते हो ख़ारे से,
इस पागल दिल को मेरे,
लगते हो बड़े प्यारे से।

Tum dariya-e-ishq ho,
Par lagte ho khare se,
Iss pagal dil ko mere,
Lagte ho bade pyare se.

मै एक भटकता मुसाफ़िर हूं,
अब मुझे रास्ता दिखा तू,
बहुत दिन लगे मंज़िल तक आने में,
अब तो मुझे सीने से लगा तू।

Mai ek bhatakta musafir hun,
Ab mujhe rasta dikha tu,
Bahut din lage manzil tak aane me,
Ab to mujhe seene se lagaa tu.

इश्क़ वो नहीं जो बातो से हो,
ये तो आंखो से बयां होता है,
मिलती है जब नज़रे उनसे,
हर रोज एक नया फ़साना होता है। (Nilesh)

Ishq wo nahi jo baato se ho,
Ye to aankho se bayaa hota hai,
Milti hai jab nazare unse,
Har roj ek naya fasana hota hai.

इश्क़ करने का यह मतलब नहीं कि रोज बाते हो,
ख़ामोशी से उनके ख्यालों में रहना भी इश्क़ है।

Ishq karne ka yah matlab nahi ki roj bate ho,
Khamoshi se unke khyalo me rahna bhi ishq hai.

काश ये सपना भी पूरा हो जाए,
हम भी किसी की सपनो में आए,
हो हमारा भी जिक्र उनके लबो पर,
हम भी उसके बिना अधूरा हो जाए।

Kaash ye sapna bhi pura ho jaaye,
Hum bhi kisi ko sapno me aaye,
Ho hamara bhi zikra un labo par,
Hum bhi uske bina adhura ho jaye.

प्यार उससे करो जो तुमसे प्यार करे,
खुद से भी ज्यादा तुम पर ऐतबार करे,
तुम बस कहो कि रुको दो पल,
और वो पूरी ज़िन्दगी इंतज़ार करे।

Pyar usse karo jo tumse pyaar kare,
Khud se bhi jyada tum par aitbaar kare,
Tum bas kaho ki ruko do pal,
Aur wo puri zindagi intezaar kare.

आसान नहीं दिल की बाज़ी लगाना,
रूह को रूह से मिलाना पड़ता है,
जरूरी नहीं कि मंज़िल पा सके,
कभी कभी राहों में बिछड़ जाना भी पड़ता है।

Aasan nahi dil ki baazi lagana,
Rooh ko rooh se milana padta hai,
Jaroori nahi ki manzil pa sake,
Kabhi kabhi raaho me bichhad jana bhi padta hai.

मै कुछ कह पाता नहीं मगर कहना चाहता हूं मै,
अकेला नहीं सिर्फ साथ तेरे रहना चाहता हूं मै,
करता हूं प्यार सिर्फ तुमसे और हमेशा करना चाहता हूं मै।

Mai kuch kah pata nahi magar kahna chahta hun mai,
Akela nahi sirf sath tere rahna chahta hu mai,
Karta hu pyar sirf tumse aur humesa karna chahta hu mai.


			

2 comments

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.